श्री मद गुरुभ्यो नमः

श्री मद गुरुभ्यो नमः

Thursday, September 30, 2010

संस्कृत पाठः 3


अत्र वयं किं अस्ति? किं नास्ति? पठामः
अस्ति ( है) नास्ति ( नहीं है )
देखो! यहाँ क्या क्या है ?

                                            

कक्षा अस्ति, छात्रः अस्ति , छात्र अस्ति ,
देखो! यहाँ क्या -क्या है ?
         
गजःअस्ति , वाहनं अस्ति, वृक्षः अस्ति ,
देखो और बताओ यहाँ क्या-क्या नहीं है ?
मानवः नास्ति,जलं नास्ति,गृहं नास्ति, बालकः नास्ति,बालिका नास्ति ,
ऐसे ही हम अन्य वाक्यों का अभ्यास करें | 
घर में हमारे सामने जो भी चीज़ें हों उनका वाक्य में प्रयोग करें |
आपको यह लेख कैसा लगा? जरूर लिखें 
                     धन्यवादः 

Friday, September 10, 2010

संस्कृत-पाठः 2

नमो नमः
अद्य वयं आगामी पाठे अभ्यासं करिष्यामः ॥ एकः अत्र विचारः अपि अस्ति यत् वयं चिन्तयामः संस्कृतं कठिनम् अस्ति ॥ मम निवेदनम् अस्ति नास्ति कापि एतादृशी सरला भाषा ॥ विश्वे अस्यां भाषायां एव प्रचुर ,सम्यक, शिष्ट-प्रयोगयुत सर्वं मिलति ॥ अतः वदन्तु संस्कृतं॥
मम नाम भूपेन्द्रः 
पाठ्य- विन्दवः -             { अहं , भवान् , भवती }
अहं शिक्षकः 
भवान् कः ? { आप कौन ? पुरुष के लिए }
भवती का ? { आप कौन ? स्त्री के लिए } 
                                                              अभ्यासः 
मम पञ्च मित्राणि 


                                                                      

भवान् कः ?                                                       अहं चिकित्सकः 



                            
भवान् कः ?                                                            अहं व्यापारी ॥




भवान् कः ?                                                   अहं अभियन्ता 




भवती का ?                                                            अहं लेखिका 
                                                                       
भवती का ?                                                               अहं रक्षिका 
 अधुना मम प्रश्नः                                 भवान् कः ? भवती का ?
क्रमशः ..........................
                                       शुभम अस्तु 

            



Saturday, September 04, 2010

प्रथमः पाठः

                                प्रथमः पाठः
नमो-नमः 

स्व परिचयः
मम नाम भूपेन्द्रः [मेरा नाम भूपेंद्र है] 

भवतः नाम किम् ? [पुरुष से -आपका क्या नाम है?] 

भवत्यः नाम किम् ?[स्त्री से-आपका क्या नाम है ?]

सः बालकः [ वह बालक है ]

सः कः ?[ वह कौन ] 

सा बालिका [ वह बालिका है ]

सा का? [ वह कौन]

तत् पुष्पम् [ वह फूल है ]

तत् किम् [ वह क्या है 

Thursday, September 02, 2010

PATHAT SANSKRITAM

कुछ प्रयोग की धातुएं -
            

Wednesday, September 01, 2010

samya

 

संस्कृत में समय ज्ञान

                                       

sanskrit ke path

धातु रूप 
संस्कृत में क्रिया के मूल शब्द को  धातु कहते हैं | जैसे - रामः पठति इस वाक्य में कर्त्ता राम है और क्रिया पठति | यह पठति शब्द का जो मूल शब्द है वह धातु है अर्थात - पठ

Learn to read Sanskrit - lesson 1

Learn to read Sanskrit - lesson 5

Learn to read Sanskrit - lesson 4



मात्राओं का शुद्ध उच्चारण बहुत ही आवश्यक है अतः यह प्रयास शायद आप सभी पाठकों के  लिए सार्थक होगा |

Time learning in sanskrit