श्री मद गुरुभ्यो नमः

श्री मद गुरुभ्यो नमः

Friday, September 10, 2010

संस्कृत-पाठः 2

नमो नमः
अद्य वयं आगामी पाठे अभ्यासं करिष्यामः ॥ एकः अत्र विचारः अपि अस्ति यत् वयं चिन्तयामः संस्कृतं कठिनम् अस्ति ॥ मम निवेदनम् अस्ति नास्ति कापि एतादृशी सरला भाषा ॥ विश्वे अस्यां भाषायां एव प्रचुर ,सम्यक, शिष्ट-प्रयोगयुत सर्वं मिलति ॥ अतः वदन्तु संस्कृतं॥
मम नाम भूपेन्द्रः 
पाठ्य- विन्दवः -             { अहं , भवान् , भवती }
अहं शिक्षकः 
भवान् कः ? { आप कौन ? पुरुष के लिए }
भवती का ? { आप कौन ? स्त्री के लिए } 
                                                              अभ्यासः 
मम पञ्च मित्राणि 


                                                                      

भवान् कः ?                                                       अहं चिकित्सकः 



                            
भवान् कः ?                                                            अहं व्यापारी ॥




भवान् कः ?                                                   अहं अभियन्ता 




भवती का ?                                                            अहं लेखिका 
                                                                       
भवती का ?                                                               अहं रक्षिका 
 अधुना मम प्रश्नः                                 भवान् कः ? भवती का ?
क्रमशः ..........................
                                       शुभम अस्तु 

            



6 comments:

dheeraj kumar said...

प्रिय महोदय, अच्छे काम के लिए धन्यवाद

kapil said...

bhupendra ji namsakar
aapne yah bahut hi achha likha hai
mai bhi prayaas karta hun aap use sudharne ka kasht karen
mam nam kapilah sahrma
aham krushakah
kya ye dono vakya sahi hai krupya bataen ka kasht karen mai aapkee prateeksha karunga
kapil singh

kapil said...

मैंने कुछ वाक्य बनाने के प्रयास किये हैं उन्हें सही करने का कष्ट करें
अहम् कपिलः
अहम् व्यवसायी
सः राघवः
सा माला
तत वाहनम
कृपया सही करने का प्रयास करें

aashish said...

मम नाम आशीशः अहम् छात्रः अहम् पठामि
ये वाकया सही हैं क्या

khan said...

पढ़ो देव भाषा यही कर्म प्रेरक
बनी है हमारे लिए ही जंहाँ में
तू हिन्दू हो मुस्लमान भी हो तो
यही एक भाषा सहायक बनेगी
नहीं जाती इसकी नहीं धर्म इसका
इन्सान रहे वह इन्सान बनकर यही
चाहती यह संस्कृत भाषा
सभी लोग बोलो पढ़ो भी इसी को
तभी तो हमारा मुल्क भी बढ़ेगा
तभी तो हमारा मुल्क भी बढ़ेगा
सरोज खान

ramesh said...

भूपेंद्र जी नमस्कार
आपने मुझे अपने इस ब्लॉग के बारे में बताया था तब मैंने सोचा था की ऐसे ही आप कुछ लिखरहे होंगे
परन्तु आपने यंहा पर बहुत ही अच्छा लिख है
आपने मुझे संस्कृत सिखाने के लिए कहा था परन्तु कभी भी आपको समय नहीं मिल पाया है| अब तो इसके माध्यम से हम सभी सिखा सकते हैं आपका यह प्रयास बहुत ही सराहनीय है मुझे कुछ श्लोक संस्कृत के यद् हाँ उन्हें आपको सुनना चाहूँगा
या देवी सर्व भुतेसु शक्ति रूपेण संस्थिता | नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः ||
आप ऐसे ही कुछ श्लोक भी लिखें यह हमारी इच्छा है |
रमेश सिंह रीवा