श्री मद गुरुभ्यो नमः

श्री मद गुरुभ्यो नमः

Wednesday, August 25, 2010

संस्कृत में विज्ञानं

गुरुत्वाकर्षण  शक्ति का ज्ञान 
इसका   संकेत नारदीय सूक्त में प्राप्त होता है | तथापि इस विषय में स्पष्ट
उल्लेख प्रश्न-उपनिषद में मिलता है | उसमें कहा गया है - पृथिवी की शक्ति 
मनुष्य को खड़ा रखने में अपान वायु की सहायता करती है | 
"आदित्यो ह वै ब्रह्मप्राणाः ,उदयत्येष ह्येनं चाक्षुषम प्राण............."प्रश्न३/८
इस पर भाष्य लिखते हुए आदि जगतगुरु शंकराचार्य कहते हैं -"यदि पृथिवी इस शरीर को अपानवायु के द्वारा सहायता न करे तो यह शरीर या तो इस ब्रह्माण्ड में तैरेगा या फिर नीचे गिर जायेगा|
यहाँ स्पष्ट है की आदि गुरु को यह बात अच्छी तरह से मालूम थी  और वे इस गुरुत्वाकर्षण शक्ति के बारे में अच्छी तरह से जानते थे | अन्यथा वे इतनी विशद व्याख्या केवल कल्पना के आधार पर कैसे कर सकते थे ? शंकराचार्य का काल ७-९ वीं सदी मना है | तो क्या हम अब भी यह ही कहेंगे 
कि न्यूटन ही इस सिद्धांत के प्रतिपादक हैं | यदि हम ऐसा कहते हैं तो यह 
अपने ऋषियों और अपने ही ज्ञान का अपमान होगा |
क्रमशः ...........
आप के विचार आमंत्रित हैं 

6 comments:

Anonymous said...

Bhupendra ji
aapne bahut sahi kaha hai
sushila

अजय कुमार said...

हिंदी ब्लाग लेखन के लिए स्वागत और बधाई
कृपया अन्य ब्लॉगों को भी पढें और अपनी बहुमूल्य टिप्पणियां देनें का कष्ट करें

पं.डी.के.शर्मा"वत्स" said...

एक सार्थक प्रयास......
भविष्य में भी इसी प्रकार ज्ञान के विस्तार में अपना अमूल्य योगदान देते रहें...
शुभकामनाऎँ!!

Patali-The-Village said...

बहुत अच्छे धन्यवाद्|

आनन्‍द पाण्‍डेय said...

ब्‍लागजगत पर आपका स्‍वागत है ।

किसी भी तरह की तकनीकिक जानकारी के लिये अंतरजाल ब्‍लाग के स्‍वामी अंकुर जी,
हिन्‍दी टेक ब्‍लाग के मालिक नवीन जी और ई गुरू राजीव जी से संपर्क करें ।

ब्‍लाग जगत पर संस्‍कृत की कक्ष्‍या चल रही है ।

आप भी सादर आमंत्रित हैं,
http://sanskrit-jeevan.blogspot.com/ पर आकर हमारा मार्गदर्शन करें व अपने
सुझाव दें, और अगर हमारा प्रयास पसंद आये तो हमारे फालोअर बनकर संस्‍कृत के
प्रसार में अपना योगदान दें ।
यदि आप संस्‍कृत में लिख सकते हैं तो आपको इस ब्‍लाग पर लेखन के लिये आमन्त्रित किया जा रहा है ।

हमें ईमेल से संपर्क करें pandey.aaanand@gmail.com पर अपना नाम व पूरा परिचय)

धन्‍यवाद

संगीता पुरी said...

इस नए सुंदर से चिट्ठे के साथ आपका हिंदी ब्‍लॉग जगत में स्‍वागत है .. नियमित लेखन के लिए शुभकामनाएं !!